Wednesday, August 26, 2009

कोलकाता और जाब चार्नाक

पूर्वी भारत कभी व्यापार और रोजगार का ऐसा केंद्र था जो देश विदेश के हर कोने से लोगों को यहां बरबस खींच लाता था। बंगाल में प्राचीन ताम्रलिप्ति बंदरगाह (जहां अब पश्चिम बंगाल का तमलुक शहर है)रोमांचक समुद्री यात्रा के लिए और कर्ण सुवर्ण (पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद में अब रांगामाटी जगह) व्यवसायियों की खातिर पड़ाव भी थी। चीनी यात्री फाहियान भी यहां से गुजरा था। उसी दौर से लेकर पाल शासकों की कर्मभूमि होने और भक्ति आंदोलन के युगपुरुष चैतन्य, रामकृष्ण परमहंस व विवेकानंद की तपोभूमि बनने से मुगलों के बाद अंग्रेजों के शासन तक यह बंगाल और उसका प्रमुख शहर कोलकाता तमाम किंवदन्तियों से जुड़ गया। कोलकाता शहर का भद्र बंगाली समाज और उसकी विशिष्ट सांस्कृतिक चमक ने हर किसी को लुभाया। यहां के जादू-टोनों से लेकर रहन-सहन, परिधान और बंगाली बाबुओं के किस्से देश के कोने-कोने में लोग अपने रोचक संस्मरणों के तौर पर सुनाते हैं। कुल मिलाकर लोगों के जेहन में अजूबा शहर कोलकाता बसा हुआ है। अंग्रेजी शासन और आजादी के आंदोलनों के दौर के किस्से तो देश की हर भाषा-साहित्य में दर्ज भी हैं। यानी किस्सागोई से बिरहगीतों के मर्म और आजादी की लड़ाई के पराक्रम से नक्सलबाड़ी आंदोलन तक बंगाल और कोलकाता लोगों की मन:स्थिति को आंदोलित करता रहा है। लोगों के जेहन में बसी उन्हीं पुरानी यादों का कोलकाता फिर अचानक चर्चा का विषय तब बन गया जब इतिहास की नई खोजों ने जाब चार्नाक को कोलकाता का संस्थापक मानने से िनकार कर दिया। लोगों के उसी सपनों के शहर कोलकाता की बुनियाद पर इतिहासकारों ने कुछ सवाल खड़े किए हैं। सवाल शहर की उस खासियत पर तो नहीं जो लोगों के जेहन में है, बल्कि शहर के प्रादुर्भाव और उसके संस्थापक समझे गए जाब चार्नाक पर उठाए गए हैं।
करीब तीन सौ साल से भी पुराने पूर्वी भारत के सबसे आलीशान शहर कोलकाता के संस्थापक का गौरव हासिल किए ईस्ट इंडिया कंपनी के सौदागर जाब चार्नाक को ‘संस्थापक’ के सम्मान से बेदखल कर दिया गया है। बंगाल के इतिहास ने फिर करवट ली और इतिहास के कई पूर्व मान्य तथ्य झूठे साबित कर दिए गए। इस बार किसी शासक ने नहीं बल्कि अदालत ने फेरबदल किए। कोलकाता हाईकोर्ट की एक खंडपीठ ने १६ मई २००३ को ऐतिहासिक फैसला सुनाया कि कोलकाता शहर का संस्थापक जाब चार्नाक नहीं था। इस फैसले के साथ ही न्यायमूर्ति एके माथुर और न्यायमूर्ति जेके विश्वास की खंडपीठ ने यह आदेश भी दिया कि इतिहास के पाठ्यक्रम में अब यह सुधार भी करना होगा। जाब चार्नाक विवाद पर अदालती हस्तक्षेप की जरूरत तब पड़ी जब कोलकाता महानगर के बेहला इलाके के सबरन रायचौधरी परिवार परिषद ने अदालत में एक जनहित चुनौती याचिका दायर करके बंगाल सरकार, नगर निगम, सूतानती परिषद, राज्य की शैक्षणिक संस्थाएं वगैरह को २४ अगस्त को कोलकाता का जन्म दिन नहीं मनाने का आदेश देने की अपील की। इसके बाद सरकार के निर्देश पर पांच इतिहासकारों की विशेषज्ञ समिति को इस विवाद पर अपनी रिपोर्ट सौंपने को कहा गया। इतिहासकार निमाई साधन बोस की अगुवाई में पांच इतिहासकारों की समिति ने पिछले साल नवंबर में ही अपनी रिपोर्ट सौंप दी थी। इस नई खोज को पश्चिम बंगाल सरकार के महाधिवक्ता बलाई राय की मंजूरी के बाद अदालत ने इसके प्रमाणिक होने की पुष्टि भी कर दी है।
इस नई अवधारणा के पहले इतिहास का मान्य तथ्य यह था कि जाब चार्नाक ने कोलकाता की स्थापना २४ अगस्त १६९० को तत्कालीन जमींदार सबरन रायचौधरी परिवार से तीन गांव सूतानती, गोबिंदपुर व कोलिकत्ता को खरीदकर की थी। मशहूर इतिहासकार सीआर विल्सन ने अपनी पुस्तक ‘ओल्ड फोर्ट विलियम इन बंगाल’ में लिखा है कि- ‘जाब चार्नाक ईस्ट इंडिया कंपनी का व्यवसायी और हुगली नदी के किनारे स्थित एक कोठी का मुखिया था। शाइस्ता खां के बाद जब इब्राहिम खां मुगलों का बंगाल में सूबेदार बना तो उसके आमंत्रण पर जाब चार्नाक ने वह स्थान चुना जहां २४ अगस्त १६९० को कोलकाता नगरी की नींव पड़ी। अगले वर्ष उसको नवाब का फरमान मिला कि तीन हजार रुपए सालाना रकम देने पर अंग्रेजों के माल पर चुंगी मांफ कर दी जाएगी। इस प्रकार जाब चार्नाक ने तत्कालीन बंगाल में कलकत्ता महानगरी और भारत में ईस्ट इंडिया कंपनी के राज का शिलान्यास किया।’ इस पूर्व मान्यता के अनुसार कोलकाता शहर को हुगली के किनारे बसे तीन गांवों सूतानुती, गोबिंदपुर, कोलिकत्ता को मात्र १२०० रुपए में हासिल करके जाब चार्नाक ने बसाया। इन गांवों का ईस्ट इंडिया कंपनी के नाम पट्टा जाब चार्नाक ने सबरन रायचौधरी परिवार से कराया जिसपर जाब चार्नाक के साले चार्ल्स आयर और सबरन रायचौधरी परिवार के एक सदस्य के हस्ताक्षर हैं।
पूर्वी भारत में व्यापार के लिए ईस्ट इंडिया कंपनी और जाब चार्नाक को यह सुरक्षित व स्थायी ठिकाना मिलना बड़ी उपलब्धि थी। योरोप से एशिया तक व्यापार के लिए अग्रसर अंग्रेज व्यापारियों के लिए सूरत, मुंबई और मद्रास के बाद पूर्वी भारत में सूतानती एक ऐसा केंद्र मिल गया जहां ईस्ट इंडिया कंपनी के नुमाइंदे व्यापार के लिहाज से कारखाने खोले और बाद में फोर्ट विलियम की किलेबंदी करके अपनी स्थिति मजबूत करने में सफल हुए। ईस्ट इंडिया कंपनी के पूर्वी भारत में यह नया कारखाना खोलने का जश्न २४ अगस्त १६९० को जाब चार्नाक ने हुगली के किनारे कंपनी का झंडा फहराकर मनाया। इतिहास में यही तारीख कोलकाता के जन्म दिन के रूप में दर्ज हो गई और जाब चार्नाक को भी इस शहर के संस्थापक का दर्जा मिल गया।
इस लेख में कलकत्ता की जगह कोलकाता का प्रयोग किया जा रहा है इस लिए यहां यह स्पष्ट कर देना आवश्यक है कि पहले इस शहर का नाम कलकत्ता ही था जिसे बदलने के लिए पश्चिम बंगाल सरकार मार्च २००२ में एक विधेयक लाई और नया नाम कोलकाता प्रयोग में लाने का निर्देश दिया। यह अध्यादेश पहली जून २००२ से लागू हो गया। अब यहां के दस्तावेजों में भी परिवर्तन कर लिए गए हैं। मसलन कलकत्ता नगर निगम अब कोलकाता नगर निगम और कलकत्ता पुलिस अब कोलकाता पुलिस के नाम से जानी जाती है।
अब नई खोजों ने कोलकाता के स्थापना दिवस मनाने के उत्साह को ठंडा कर दिया है। इसके पहले हर साल २४ अगस्त को कोलकाता का ३१४वां जन्मदिन धूमधाम से मनाया जाता था। अब इतिहास की नई खोजों ने जाब चार्नाक को कोलकाता का संस्थापक मानने और २४ अगस्त को जन्मदिन मनाने से वंचित कर दिया है। मशहूर इतिहासकार निमाई बोस, सेंटर फार स्टडीज इन सोशल साइंसेज के पूर्व निदेशक प्रोफेसर बरुण दे, अरुण कुमार दासगुप्ता और दिलीप सिन्हा ने नौ पेज की अपनी रिपोर्ट में कोलकाता शहर की स्थापना के जो नए सिध्दांत प्रतिपादित किए हैं उसके मुताबिक कोलकाता अचानक शहर नहीं बना। सत्रहवीं शताब्दी के आखिर तक यह गावों के कई समूहों के विकसित होकर कस्बे में बदलने के बाद शहर में तब्दील हुआ। इसी आधार पर इन इतिहासकारों की राय है कि कोलकाता का न तो कोई एक जन्मदिन और न ही कोई एक संस्थापक निर्धारित हो सकता है। इसके अलावा इन इतिहासकारों का यह भी तर्क है कि जाब चार्नाक ने कोलकाता जैसे किसी शहर का २४ अगस्त १६९० को शिलान्यास नहीं किया था। खुद भी १६९३ ई. में मर गया। जाब चार्नाक के संस्थापक न मानने का सबसे मजबूत साक्ष्य इन इतिहासकारों ने पेश किया है कि जाब चार्नाक ने कभी अपने पत्रों में कोलकाता नाम का जिक्र नहीं किया। वह अपने पत्रों में इस जगह का नाम सूतानुती लिखा करता था। अर्थात् जाब चार्नाक के दिमाग में उस वक्त कोई शहर बसाने की बजाए सिर्फ एक सुरक्षित व्यापारिक केंद्र बनाने की ही योजना रही होगी। बावजूद इसके नई अवधारणा प्रतिपादित करने वाले ये इतिहासकार भी इस बात को मानते हैं कि कोलकाता के शहर के रूप में विकसित होने में जाब चार्नाक की भूमिका महत्वपूर्ण रही।
जहां तक कोलकाता की प्राचीनता का सवाल है तो यह नाम ५०० साल से ज्यादा पुराना है क्यों कि प्राचीन दस्तावेजों में कोलकाता नाम का उल्लेख है। इनमें सबसे पुराना साक्ष्य बांग्ला साहित्य के ग्रन्थ ‘मानस मंगल’ का है। इसे १४९५ में विप्रदास पिपला ने लिखा है। इसमें कलकत्ता का उल्लेख है। मुगल सम्राट अकबर का दरबारी अबुल फजल भी अपने ग्रन्थ ‘आइने-अकबरी’ में बंगाल की सामाजिक-आर्थिक दशा का विवरण देते हुए ‘कलकत्ता’ का उल्लेख किया है। बांग्ला के मध्यकालीन कवि सनत घोषाल खुद को १६८० ई. में ‘कोलिकत्ता’ में पैदा हुआ बताते हैं। इन साक्ष्यों के आलोक में यह मानने में कोई अड़चन नहीं है कि जाब चार्नाक के यहां आकर बसने के पहले से कोलकाता नामक जगह थी। मगर यह कोई शहर नहीं था। इन कुछ गांवों को छोड़कर कालीघाट से लेकर सूतानुती तक जंगल था। जो सुंदरवन के जंगलों का विस्तार था।
इन सारे तर्कों के बावजूद इतिहास की कड़ियां यहां थोड़ी उलझ जाती हैं। पहली बात तो यह कि जब ‘कलकत्ता’ नामक जगह थी तो इसका उल्लेख जाब चार्नाक अपने पत्रों में क्यों नहीं करता था? यानी तब कलकत्ता नामक जगह जाब चार्नाक के खरीदे गए तीन गांवों की तुलना में शायद महत्वपूर्ण नहीं थी। ऐसे में अगर इन तीन गांवों से ही आगे चलकर कोलकाता शहर विकसित हुआ तो इस शहर का नाम कोलकाता ही रखने की क्या मजबूरी थी? शहर के नामकरण में ये तीन गांव क्यों प्रभावहीन साबित हुए? बहरहाल इस दिशा में इतिहासकारों की खोजें हीं कुछ खुलासा कर पाएंगी मगर जो ज्ञात है वह यह है कि जब जाब चार्नाक यहां आया तो उसने भी अपने लिए मिट्टी के घर बनवाए थे। यही वे केंद्र बिंदु थे जो कोलकाता शहर के विकास के ठोस कारण बने। दरअसल उसने उस प्रक्रिया का मौलिक ढांचा खड़ा किया जिसके कारण व्यापारियों और बाजार का एक केंद्र विकसित हुआ। इस तर्क को इस आधार पर माना जा सकता है कि अंग्रेजों के यहां अपने कारखाने खोलने और किलेबंदी के कारण बंगाल के दूर-दराज के जमींदार और व्यापारी यहीं आकर बसने लगे। धीरे-धीरे यह इलाका ग्रामीण बस्ती की जगह अभिजात्य वर्ग के कस्बे में बदल गया। उदाहरण स्वरूप कोलकाता शहर के बीडन स्ट्रीट की रामदुलाल देब ठाकुर बाड़ी के लोग उसके बाद ही आज के राजारहाट इलाके से यहां आए। यह बीडन स्ट्रीट, शोभाबाजार तब का सूतानुती ही है। इसी ठाकुरबाड़ी परिवार के एक सदस्य और कोलकाता की विरासत को सहेजकर रखने के काम में लगी ‘सूतानुती परिषद’ के संयुक्त सचिव के. के. देब बताते हैं कि उनके पूर्वज १७५२ ई. में यहां आए थे। उनके मुताबिक राजारहाट से सूतानुती आने की मुख्य वजह व्यापार-व्यवसाय की सुविधा और सुरक्षा थी। ये साक्ष्य भी यही साबित करते हैं कि जाब चार्नाक के प्रयासों से एक ऐसा व्यापारिक केंद्र विकसित हुआ जिसने कोलकाता जैसे शहर के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।
दरअसल यहां आकर जाब चार्नाक के बसने और अपनी प्रशासनिक बस्ती तैयार करने की बड़ी वजह दूसरी योरोपीय कंपनियों के साथ व्यापारिक प्रतिस्पर्धा थी। उसकी मंशा एक ऐसे केंद्र की स्थापना की थी जहां अंग्रेज व्यापारी सुविधा संपन्न और महफूज रह सकें तभी तो मुगल सम्राट औरंगजेब की अनुमति के बाद कैप्टन ब्रुक को जाब चार्नाक ने अपनी जहाज के साथ यहां आने का संदेश भेजा था। २८ अगस्त १६९० को बंगाल काउंसिल के साथ बातचीत के बाद अपने अंग्रेज साथियों को यहां लाया। तब जाब चार्नाक और उसकी दो सदस्यीय एलिस और पिची की काउंसिल व उसके बीस सिपाहियों ने पुरानी झोपड़ियों को मरम्मत करके रहने लायक बनाया। मिट्टी की दीवाल वाली नई झोपड़ियां भी बनाई। इसके बाद इसके इर्द-गिर्द तमाम घर बनते चले गए। जो बेहद बेतरतीब तरीके से बने। ईस्ट इंडिया का चीफ गवर्नर व सुपरवाइजर जान गोल्डस बोरो हुगली के किनारे जाब चार्नाक के स्थायी तौर पर बस्ती बना लेने के बाद १६९३ ई. में कोलकाता का दौरा किया था। तब बन चुकीं और बन रहीं बस्तियों के बारे में उसने लिखा है कि- सभी घर बेहद पास-पास बेतरतीब तरीके से बने हैं और जहां जिसकी मर्जी गड्ढा खोद लेता है। यानी जाब चार्नाक के रहते हुए भी लोग बड़े अव्यवस्थित तरीके से बिना किसी योजना के घर बना रहे थे। उस समय तक जो कस्बा विकसित हुआ उसमें कोई व्यवस्थित शहर बसाने की किसी योजना की झलक तक नहीं दिखाई देती। मोटे तौर पर ईस्ट इंडिया कंपनी की व्यापारिक जरूरतों के मद्देनजर १७०७ ई. तक अंग्रेज पूरी तरह से यहां बस गे थे। कोलकाता तभी जाकर सही मायने में टाउन में तब्दील हुआ। १६९६ ई. से १७१५ ई. के बीच फोर्टविलियम की किलेबंदी की गई। उसी ओल्ड फोर्टविलियम की जगह आज कस्टम हाउस और जनरल पोस्ट आफिस है। मौजूदा फोर्टविलियम के लिए दूसरी जगह बाद में चुनी गई। आज का डलहौसी इलाका उनमें से एक है जहां अंग्रेजों ने आवास और दफ्तर व्यवस्थित तरीके से बना लिए थे। सूतानुती, गोबिंदपुर और कोलिकत्ता के बाद इस इलाके में चौरंगी से मैदान तक का वह इलाका भी शामिल हो गया जहां कभी सुंदरवन का घना जंगल था और टाईगर बेखौफ घूमा करते थे। इतना व्यवस्थित होने और एक शहर में तब्दील होने में कई दशक बीत गए और तब तक ईस्ट इंडिया कंपनी अपनी सत्ता जमा चुकी थी। इसके बाद ही प्लासी के युध्द में नवाब सिराजुद्दौला को धूल चटाकर भारत में सत्ता की हिस्सेदार बन गई।
कोलकाता शहर बनने की इस पूरी प्रक्रिया को जाब चार्नाक की शहर बसाने की किसी योजना ने नहीं पूरा किया बल्कि ईस्ट इंडिया कंपनी के बाद के अधिकारियों की कोशिशों का नतीजा था। ऐसे में यह सवाल उठना लाजिमी है कि कोलकाता शहर का कोई एक संस्थापक कैसे हो सकता है? मगर इस सत्य को नकारना भी इतिहास के साथ बेमानी होगी कि कोलकाता शहर अस्तित्व में इसी के बाद आया।
कोलकाता के जन्मदिन २४ अगस्त को शहर की एक संस्था सूतानुती परिषद १९९२ से उत्सव के तौर पर मनाती रही है। हालांकि हाईकोर्ट के आदेश के बाद नई परिस्थितियों पर विचार के लिए परिषद ने एक बैठक में तय किया कि वह हर साल की तरह २४ अगस्त को ही सूतानुती उत्सव मनाएगी। कोलकाता के जन्मदिन २४ अगस्त को ही उत्सव मनाने के पीछे परिषद के संयुक्त सचिव केके देब तर्क देते हैं कि इसके पहले भी वे लोग जन्म दिन नहीं मनाते थे। यह संस्था तो शहर की विरासत के संरक्षण के लिए गठित की गई है और सूतानुती उत्सव में हमारी चर्चा का विषय भी विरासत को बचाने से ही संबंधित होता है। केके देब भी बड़ी ईमानदारी से इस बात को स्वीकार करते हैं कि २४ अगस्त कोलकाता का जन्मदिन तो नहीं हो सकता मगर इस सत्य से भी इनकार नहीं किया जा सकता कि इसके बाद से ही वह प्रक्रिया शुरू हुई जिससे गुजरकर कोलकाता शहर का स्वरूप सामने आया। और हम उसी कोलकाता की विरासत के संरक्षण में लगे हुए हैं। परिषद के गठन और उसकी उपलब्धियों का हवाला देते हुए केके देब बताते हैं कि शुरू में कुछ जागरूक लोगों ने शोभाबाजार नाट्यमंदिर को एक प्रमोटर के हाथों बेचे जाने का विरोध किया। केके देब के साथ कुछ और जागरूक नागरिकों ने नगर निगम से इसे छुड़ाने और इसके जीर्णोध्दार की अपील की। फिलहाल नगर निगम ही इसकी देखरेख में लगा है। इसी घटना के बाद इन नागरिकों ने महसूस किया कि एक ऐसी परिषद होनी चाहिए जो शहर की ऐसी तमाम इमारतों व सास्कृतिक विरासत की रक्षा कर सके। इसी के तहत १९९२ में सूतानुती परिषद का गठन किया गया।
कोलकाता के जन्म दिन के विवाद से जुड़ा एक और परिषद है सांखेर बाजार के पास बारिशा स्थित सबरन रायचौधरी परिवार परिषद। कोलकाता का २४ अगस्त को जन्म दिन मनाने का रायचौधरी परिवार ही प्रबल विरोधी रहा है। रायचौधरी परिवार का कहना है कि वे जाब चार्नाक से पहले इस इलाके के जमींदार थे। जाब चार्नाक तो बाद में आया और उनसे ही तीन गांवों की जमींदारी खरीदी थी। ऐसे में कैसे जाब चार्नाक कोलकाता का संस्थापक हो सकता है? इसी आधार पर सबरन रायचौधरी परिवार परिषद ने कोलकाता हाई कोर्ट में याचिका दायर करके जन्मदिन और जाब चार्नाक के संस्थापक की अवधारणा को चुनौती दी थी।
कोलकाता के जन्मदिन की अवधारणा को खारिज तो इसी शहर के मशहूर इतिहासकार पीटी नायर भी कर चुके हैं। जाब चार्नाक पर लिखी अपनी पुस्तक में उन्होंने इस मिथक को ही गलत ठहराया है कि कोलकाता का २४ अगस्त १६९० ई. को जन्म हुआ और जाब चार्नाक इसके जनक थे। पीटी नायर ने कोलकाता पर ढेर सारी किताबें लिखी हैं। इनमें से एक पुस्तक ‘रेनेशां’ भी है जिसे उन्होंने कोलकाता का दौरा करने वाले योरोपीय यात्रियों की ३५ डायरियों और पत्रों को आधार बनाकर लिखा है। यह पुस्तक कोलकाता के इतिहास पर मौलिक सामग्री का दस्तावेज है। कुल मिलाकर तब तो नहीं पर अब हाई कोर्ट के फैसले के बाद पीटी नायर भी सच साबित हो गए हैं।
कोलकाता नगर निगम के पूर्व मेयर सुब्रत मुखर्जी ने तो स्पष्ट शब्दों में कहा कि वे कभी भी कोलकाता का जन्मदिन नहीं मनाते थे। मेयर का भी मानना है कि गांवों से धीरे-धारे कोलकाता का विकास हुआ।
संभवत: अब करीब ५०० साल से अधिक पुराने उस साक्ष्य को मान्यता प्रदान की जाएगी जिसमें कोलकाता का जिक्र है। यह साक्ष्य है १४९५ ई. का विप्रदास का ग्रन्थ मानस मंगल। नवीन अवधारणा के तहत कोलकाता की प्राचीनता ५०० साल से अधिक मानी जानी चाहिए। संभव है कि इतिहासकार कोई और साक्ष्य ढूंढ पाएं और तब शायद कोलकाता को और प्राचीन होना साबित किया जा सकेगा।
इस नई अवधारणा से ‘कोलकाता’ की प्राचीनता भले निर्धारित हो सकती है मगर भरपूर साक्ष्यों के अभाव में अभी यह साबित करना मुश्किल होगा कि ‘कोलकाता शहर’ भी इतना पुराना है। फिलहाल उपलब्ध साक्ष्य यही बताते हैं कि शहर तो अस्तित्व में जाब चार्नाक और ईस्ट इंडिया कंपनी के आगमन के बाद ही आया। सूतानुती परिषद भी इसी तथ्य को मानता है। इतिहास अपने जितने पन्ने खोले चाहे बंद करे मगर नई अवधारणा से इस शहर के लोगों की वह एकरूपता बिखर गई है जो उनको संवेदनात्मक रूप से जोड़े रखने की कारक थी। ऐसे लोगों को समायोजित होने में वक्त लगेंगे। जहां तक उत्सव मनाने की बात है तो सूतानुती परिषद उसी दिन उत्सव मनाना तय किया है।
सबरन रायचौधरी परिवार कोलकाता के सौभाग्य प्रतीक पुरुष के रूप में अपने ही पूर्वज और १७वीं शताब्दी के समाज सुधारक लक्ष्मीकांत रायचौधरी को अपनाया है। लक्ष्मीकांत ने उस वक्त के समाज से कुलीनता और बहुविवाह जैसी बुराईयों को खत्म करने की लड़ाई लड़ी थी। सबरन रायचौधरी परिवार परिषद के प्रवक्ता और सहायक सचिव देवर्षि रायचौधरी का दावा है कि ईश्वरचंद्र विद्यासागर और राजा राममोहन राय से काफी पहले लक्ष्मीकांत रायचौधरी ने समाज सुधार आंदोलन शुरू किया था। फिलहाल सबरन रायचौधरी परिवार परिषद लक्ष्मीकांत को कोलकाता के संस्थापक के रूप में पेश नहीं है। यह तो समय ही बताएगा कि ये आयोजन सिर्फ पारिवारिक कार्यक्रमों तक सिमटकर रह जाएंगे या फिर कोलकाता की सांस्कृतिक विरासत के संरक्षण के लिहाज से महत्वपूर्ण भी साबित होंगे। जो भी हो मगर इन आयोजनों में वह सार्वजनिकता कैसे आएगी जो गलत ही सही पर संवेदनात्मक तौर पर कोलकाता के लोगों को एक मंच प्रदान करती थी। दरअसल इतिहास की और भी ऐसी तमाम घटनाएं हैं जिनपर सारे इतिहासकार एकमत नहीं हो पाए हैं। ऐसे ही तथ्य लोगों में और इतिहास की ऐतिहासिकता के बारे में भ्रम पैदा करते हैं। हकीकत यह है कि जब तक किसी अवधारणा में प्रमाणिक एकरूपता नहीं होती आमलोग उसे अपनी संवेदनाओं से जोड़ ही नहीं पाते हैं। कोलकाता की नई अवधारणा भी संवेदनात्मक तौर पर अभी इसी दौर में है।
Post a Comment

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...