इतिहास ब्लाग में आप जैसे जागरूक पाठकों का स्वागत है।​

Website templates

Thursday, April 5, 2012

ऐतिहासिक अक्षयवट वृक्ष​​


खबरों में इतिहास
  अक्सर इतिहास से संबंधित छोटी-मोटी खबरें आप तक पहुंच नहीं पाती हैं। इस कमी को पूरा करने के लिए यह ब्लाग  इतिहास की नई खोजों व पुरातत्व, मिथकीय इतिहास वगैरह से संबंधित खबरों को संकलित करके पेश करता है। अगर आपके पास भी ऐसी कोई सामग्री है तो मुझे drmandhata@gmail पर हिंदी या अंग्रेजी में अपने परिचय व फोटो के साथ मेल करिए। इस अंक में पढ़िए--------।
१- ऐतिहासिक अक्षयवट वृक्ष​​
२- ९०० साल पुराना चीनी मिट्टी का कटोरा
३- नेपाल में कुसुंडा भाषा की एकमात्र वारिस..
४- डायनासोर के लिए सबसे बड़ा खतरा थी जंगल की आग
५- जल में रहते थे डायनोसोर!
६- यूरोप में डायनासोर की सबसे बड़ी खोपड़ी बरामद

ऐतिहासिक अक्षयवट वृक्ष​​
​hindi.webdunia.com/1100629062_1.htm
इलाहाबाद स्थित अकबर के किले में एक ऐसा वट है जो कभी यमुना न‍दी के किनारे हुआ करता था और जिस पर चढ़कर लोग मोक्ष की कामना से नदी में छलांग लगा देते थे। इस अंधविश्वास ने अनगिनत लोगों की जान ली है। शायद यही कारण है कि अतीत में इसे नष्ट किए जाने के अनेक प्रयास हुए हालाँ‍कि यह आज भी हरा-भरा है। यह ऐतिहासिक वृक्ष किले के जिस हिस्से में आज भी स्थित है वहाँ आमजन नहीं जा सकते पर इसे अक्षयवट कहते हैं। यूँ तो अक्षयवट का जिक्र पुराणों में भी हुआ है पर वह वृक्ष अकबर के किले में स्थित यही वृक्ष है कि नहीं, यह कहना आसान नहीं।

इस वृक्ष को सातवीं शताब्दी में व्हेनत्सांग की यात्रा के संस्मरण को आधार बनाकर इतिहासकार वाटर्स ने 'आदमखोर वृक्ष' की संज्ञा दी है। संभवत: इस वृक्ष से कूदकर आत्महत्या करने की प्रवृत्ति के मद्देनजर उसे यह नाम दिया गया होगा। सन 1030 में अलबरूनी ने इसे प्रयाग का पेड़ बताते हुए लिखा कि इस अजीबोगरीब पेड़ की कुछ शाखाएँ ऊपर की तरफ और कुछ नीचे की तरफ जा रही हैं। इनमें पत्तियाँ नहीं हैं। इस पर चढ़कर लोग नदी में छलाँग लगाकर जान दे देते हैं। 11वीं शताब्दी में समकालीन इतिहासकार मेहमूद गरदीजी ने लिखा है कि एक बड़ा सा वट वृक्ष गंगा-यमुना तट पर स्थित है, जिस पर चढ़कर लोग आत्महत्या करते हैं।

13वीं शताब्दी में जामी-उत-तवारीख के लेखक फजलैउल्लाह रशीउद्दीन अब्दुल खैर भी इस पेड़ पर चढ़कर आत्महत्याएँ किए जाने का जिक्र करते हैं। अकबर के समकालीन इतिहासकार बदायूनी ने भी लिखा है कि मोक्ष की आस में तमाम काफिर इस पर चढ़कर नदी में कूदकर अपनी जान देते हैं। जिस समय अकबर यहाँ पर किला बनवा रहा था तब उसकी परिधि में कई मंदिर आ गए थे। अकबर ने उन मंदिरों की मूर्तियों को एक जगह इकट्‍ठा करवा दिया। बाद में जब इस स्थान को लोगों के लिए खोला गया तो उसे पातालपुरी नाम दिया गया। जिस जगह पर अक्षयवट था वहाँ पर रानीमहल बन गया। हिंदुओं की आस्था का ख्याल रखते हुए प्राचीन वृक्ष का तना पातालपुरी में स्थापित कर दिया गया।

आज सामान्य जन उसी अक्षयवट के दर्शन करते हैं जबकि असली अक्षयवट आज भी किले के भीतर मौजूद है। अक्षयवट को जलाकर पूरी तरह से नष्ट करने के ‍प्रयास जहाँगीर के समय में भी हुए लेकिन हर बार राख से अक्षयवट की शाखाएँ फूट पड़ीं, जिसने वृक्ष का रूप धारण कर लिया। वर्ष 1611 में विलियम फ्रिंच ने लिखा कि महल के भीतर एक पेड़ है जिसे भारतीय जीवन वृक्ष कहते हैं। मान्यता है कि यह वृक्ष कभी नष्ट नहीं होता। पठान राजाओं और उनके पूर्वजों ने भी इसे नष्ट करने की असफल कोशिशें की हैं। जहाँगीर ने भी ऐसा किया है लेकिन पेड़ पुनर्जीवित हो गया और नई शाखाएँ निकल आईं। व्हेनत्सांग जब प्रयाग आया था तो उसने लिखा - नगर में एक देव मंदिर है जो अपनी सजावट और विलक्षण चमत्कारों के लिए विख्‍यात है। इसके विषय में प्रसिद्ध है कि जो कोई यहाँ एक पैसा चढ़ाता है वह मानो और तीर्थ स्थानों में सहस्र स्वर्ण मुद्राएँ चढ़ाने जैसा है और यदि यहाँ आत्मघात द्वारा कोई अपने प्राण विसर्जन कर दे तो वह सदैव के लिए स्वर्ग में चला जाता है।

मंदिर के आँगन में एक विशाल वृक्ष है जिसकी शाखाएँ और पत्तियाँ बड़े क्षेत्र तक फैली हुई हैं। इसकी सघन छाया में दाईं और बाईं ओर स्वर्ग की लालसा में इस वृक्ष से गिरकर अपने प्राण दे चुके लोगों की अस्थियों के ढेर लगे हैं। यहाँ एक ब्राह्मण वृक्ष पर चढ़कर स्वयं आत्मघात करने को तत्पर हो रहा है। वह बड़े ओजस्वी शब्दों में लोगों को प्राण देने के लिए उत्तेजित कर रहा है परंतु जब वह गिरता है तो उसके साधक मित्र नीचे उसको बचा लेते हैं। वह कहता है, 'देखो, देवता मुझे स्वर्ग से बुला रहे हैं परंतु ये लोग बाधक बन गए।' वर्ष 1693 में खुलासत उत्वारीख ग्रंथ में भी इसका उल्लेख है कि जहाँगीर के आदेश पर इस अक्षयवट को काट दिया गया था लेकिन वह फिर उग आया। इलाहाबाद विश्वविद्यालय में इतिहास के प्रोफेसर योगेश्वर तिवारी अक्षयवट को नष्ट करने संबंधी ऐतिहासिक तथ्यों में सत्यता पाते हैं और उसे सही भी ठहराते हैं। वह मानते हैं कि इस तरह के अंधविश्वास लोगों में नकारात्मक विचार भरते हैं, उन्हें जीवन से विमुख करते हैं। यह वृक्ष अपनी गहरी जड़ों के कारण बार-बार पल्लवित होकर हमें भी जीवन के प्रति ऐसा ही जीवट रवैया अपनाने की प्रेरणा देता है न कि अनजानी उम्मीदों में आत्महत्या करने की।९

९०० साल पुराना चीनी मिट्टी का कटोरा
http://www.bbc.co.uk/hindi/china/2012/04/120405_china_bowl_auction_vd.shtml
चीन में सौंग वंश का एक पुराना कटोरा 267 लाख डॉलर (करीब 139 करोड़ रुपए) में नीलाम हुआ है. लगभग 900 साल पुराना ये सिरेमिक यानी चीनी मिट्टी का कटोरा सौंग वंश का था और इसे हॉंगकॉंग में सूदबीज ने नीलाम किया.फूल के आकार में ढला ये कटोरा बेहद दुर्लभ है. इसे जापान के खरीददार ने लिया जिसने अपनी पहचान नहीं बताई और फोन पर बोली लगाई. सूदबीज एशिया के उप चेयरमैन निकोलस चाउ ने कहा, "शायद ये चीज़ सौंग वंश की सबसे महान कलाकृति है जिसे हमने हॉंगकॉंग में नीलाम किया है." ऐसा अनुमान है कि दुनिया में अब केवल 79 पूरी तरह से सुरक्षित सिरेमिक की कलाकृतियाँ मौजूद है जिसमें सिर्फ पांच निजी हाथों में हैं. नीलामी के अधिकारियों को इस कलाकृति से मिली राशि पर हैरानी हुई है. बिक्री से पहले इसकी जितनी कीमत लगाई गई थी, ये उससे तीन गुणा कीमत में बिकी. न्यूयॉर्क और लंदन के बाद हॉंग कॉंग एक मशहूर नीलामी केंद्र के रूप में उभरा है. संवाददाताओं का कहना है कि इसकी कीमत ये बताती कि एशिया का कला बाजार कितना मजबूत है और इसमें पिछले दस सालों में बड़ा विकास देखा गया है.

नेपाल में कुसुंडा भाषा की एकमात्र वारिस..
http://www.bbc.co.uk/hindi/news/2012/04/120403_kusunda_sb.shtml
फर्ज़ कीजिए कि एक सुबह आप उठें,अपने आस पास के लोगों से बातचीत करना चाहें लेकिन कोई आपकी भाषा समझ ही ना पाए. उलझन की बात है ना फिर सोचिए उस शख़्स का क्या हाल होगा जिसकी बोली बोलने और समझने वाला पूरे देश में ही कोई ना हो.
ये कोरी कल्पना नहीं नेपाल की 75 वर्षीय ग्यानी मेइया सेन के जीवन का सच है.ग्यानी कुसुंडा भाषा बोलती हैं जिसे बोलने वाली वो नेपाल की अकेली जीवित नागरिक हैं और इसी वजह से भाषा वैज्ञानिकों के आकर्षण का केन्द्र भी. कुछ समय पहले तक पुनी ठाकुरी और उनकी बेटी कमला खेत्री नेपाल में कुसुंडा भाषा बोलने वाला दूसरा परिवार था लेकिन पुनी ठाकुरी की मौत औऱ कमला के देश छोड़ने के बाद नेपाल में फिलहाल कुसुंडा भाषा परिवार का अस्तित्व टिका है सिर्फ ग्यानी पर.
नेपाल के त्रिभुवन विश्वविद्यालय में भाषा-विज्ञान के प्रोफेसर माधव प्रसाद पोखरेल इस मृतप्राय भाषा को बचाने की मुहिम में लगे हैं.पोखरेल ने बीबीसी को बताया "दुनिया भर में बोली जाने वाले 20 भाषा परिवारों में सबसे अलग है. कुसुंडा भाषा की किसी भी अन्य भाषा परिवार से कोई समानता नही है. ये एक विशेष भाषा परिवार की नुमाइंदगी करती है."
भाषाविदों की अपील है कि इस विशिष्ट भाषा को बचाया जाए वरना ये बहुत जल्द नष्ट हो जाएगी. इसके लिए सरकार से भी गुज़ारिश की गई है.उधर सरकारी अधिकारियों की दलील है कि उन्हें इस बात की कोई जानकारी ही नहीं है कि ये भाषा बोलने वाले कितने लोग जीवित हैं. नेपाल के केन्द्रीय सांख्यिकीय ब्यूरो में निदेशक रूद्र सुवल कहते हैं " 2001 की जनगणना के मुताबिक़ कुसुंडा बोलने वाले 164 लोग जीवित हैं जबकि 2011 की जनगणना के अंतिम आंकडो़ का अभी इंतज़ार है."

डायनासोर के लिए सबसे बड़ा खतरा थी जंगल की आग
http://www.samaylive.com/science-news-in-hindi/146074/dinosaurs-forest-fires-scientists-greenhouse.html
वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि करोड़ों साल पहले धरती पर मौजूद रहे डायनासोर के लिए जंगल में लगने वाली आग भी एक बड़ा खतरा था.
जीवाश्म रिकॉर्ड में चारकोल यानी लकड़ी के कोयले की मात्रा का विश्लेषण करने वाले वैज्ञानिकों ने पाया कि 14.5 और 6.5 करोड़ साल की अवधि के बीच के ‘क्रिटेसियस पीरियड’ के दौरान जंगलों में इतनी आग लगती थी जितना इंसानों ने सोचा भी नहीं था. शोधकर्ताओं ने उक्त अवधि के दौरान के चारकोल का एक वैश्विक डेटाबेस तैयार कर लिया. ‘लाइव साइंस’ में लंदन की रॉयल हॉलोवे यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर और प्रमुख शोधकर्ता एंड्रयू स्कॉट के हवाले से कहा गया ‘‘चारकोल उन पेड़ों के अवशेष हैं जो जल चुके थे और इन्हें जीवाश्म रिकॉर्ड में आसानी से सहेज लिया गया.’’
वैज्ञानिकों ने कहा कि जंगल में लगने वाली आग की कई वजहें हो सकती हैं. वायुमंडल में ग्रीनहाउस प्रभाव के कारण उस वक्त तापमान भी बहुत अधिक होता था. ऑक्सीजन की अत्यधिक मात्रा से प्राचीन वायुमंडल भी भरा होता था और इससे आग को भड़कने में मदद मिलती है. कुसुंडा भाषा परिवार और इसे बोलने वालों की सरकारी सहायता के लिए लगातार मांग उठ रही है लेकिन नेपाल में फ़िलहाल इस दिशा में कोई प्रगति होती दिखाई नहीं दे रही है.

जल में रहते थे डायनोसोर!
 वैज्ञानिकों का लंबे समय से यह दावा रहा है कि सभी डायनोसोर जमीन पर रहते थे। कुछ विशालकाय पक्षी भले ही जल में गोते लगाते थे लेकिन वे महासागर , झील या नदियों में नहीं रहते थे। अब, इन सबसे उलट एक वरिष्ठ वैज्ञानिक ने एक भिन्न सिद्धांत का दावा किया है । उनका कहना है कि डायनोसोर इतने बड़े और भारी थे कि सूखी भूमि पर उनका रह पाना मुश्किल था और वे अवश्य ही जल में रहते होंगे। प्रोफेसर ब्रायन जे फोर्ड के मुताबिक, दशकों तक जैसे वैज्ञानिक समझते रहे वैसे ये प्रागैतिहासिक जीव रहते ही नहीं थे। उनका मानना है कि इन जीवों की पूंछ इतनी विशाल और भारी भरकम थी कि इस कारण उनका शिकार कर पाना या चपलता से चल पाना भी मुश्किल था। फोर्ड ने कहा कि डायनोसोर अवश्य ही जल में रहते होंगे जहां का वातावरण उनकी विशालता का सफलतापूर्वक साथ देता होगा। (एजेंसी)​
​​
यूरोप में डायनासोर की सबसे बड़ी खोपड़ी बरामद
http://khabar.ibnlive.in.com/news/70087/9
 स्पेन के जीवाश्मिकी फाउंडेशन ने यूरोप में मिली डायनासोर की अब तक की सबसे बड़ी जीवाश्म खोपड़ी पेश की है। समाचार एजेंसी ईएफई के अनुसार, यह खोपड़ी 14 करोड़ 50 लाख वर्षो पहले पृथ्वी पर पाए जाने वाले टूरिएसॉरस रिओडेवेंसिस प्रजाति के सॉरोपोड डायनासोर की है, जो 30 मीटर से भी अधिक लम्बा और 40 टन वजनी हुआ करता था।
तेरुएल डायनोपोलिस फाउंडेशन की जीवाश्मिकी प्रयोगशाला में बीते बुधवार को डायनासोर की जो खोपड़ी दिखाई गई, उसमें 35 से अधिक हड्डियां और सात दांत हैं। ये अवशेष रिओदेवा नगरपालिका में बेरीहोंडा-एल हुमेरो से वर्ष 2005 के खुदाई अभियान के दौरान मिले थे।
शोधकर्ताओं के अनुसार इस प्रजाति के डायनासोर की खोपड़ी बहुत नाजुक होती थी। यही वजह है कि ये कम मिलती है। अब तक मिले इस प्रजाति के डायनासोरों के अवशेषों में से प्रत्येक पांच में चार की खोपड़ी नहीं है। एक विज्ञान पत्रिका 'सिस्टेमैटिक पालेओंटोलॉजी' की रपट के मुताबिक, करीब 30-35 मीटर लंबे टूरिएसॉरस रिओडेवेंसिस प्रजाति के डायनासोर आईबेरियन द्वीप में पाए जाते थे। विशालकाय सॉरोपोड के अवशेष अब तक दक्षिण अमेरिका में अर्जेटीनोसॉरूस, उत्तरी अमेरिका में सेइसमोसॉरूस, अफ्रीका में गिराफाटिटन और पारालिटिटन, एशिया में मामेंचिसॉरूस और यूरोप में टूरिएसॉरस से बरामद किए गए हैं।
Post a Comment

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...