इतिहास ब्लाग में आप जैसे जागरूक पाठकों का स्वागत है।​

Website templates

Friday, March 5, 2010

क्या है मिस्र के पिरामिडों के भीतर ?

खबरों में इतिहास ( भाग-6)
अक्सर इतिहास से संबंधित छोटी-मोटी खबरें आप तक पहुंच नहीं पाती हैं। इस कमी को पूरा करने के लिए इतिहास ब्लाग आपको उन खबरों को संकलित करके पेश करेगा, जो इतिहास, पुरातत्व या मिथकीय इतिहास वगैरह से संबंधित होंगी। इस अंक में पढ़िए----।

१-क्या है मिस्र के पिरामिडों के भीतर
२-राजा तूतनखामन का रहस्य
३-Secrets of Egypt's Lost Queen
४-पिरामिड का जादुई प्रभाव
५-डायनासोरों को खा जाने वाला साँप
६-नष्ट हो रहे हैं ऐतिहासिक साक्ष्य ?
७-नष्ट हो रही है हजारों साल पुरानी सभ्यता

क्या है मिस्र के पिरामिडों के भीतर ?

मिस्र की राजधानी काहिरा के पास गीज़ा के पठार के नज़दीक तीन बड़े पिरामिडों का समूह है. इनमें से सबसे बड़ा 'हाफ़ू का पिरामिड' है जिसे देखने दुनिया भर से पर्यटक आते हैं. सभी ने अपने जीवन में पिरामिड के बार में बहुत कुछ पढ़ा होता है और उनमें बहुत कुछ और जानने और देखने की उत्सुकता होती है. लेकिन पिरामिड के अंदर की दुनिया कैसी होती है यह अभी तक रहस्य बना हुआ है. साढ़े चार हज़ार साल पुराने गीज़ा पिरामिड को लगभग एक लाख लोगों ने मिलकर 30 साल में खड़ा किया था.
पुरातत्वविदों व वैग्यानिकों ने रहस्यमय गीजा के पिरामिडों के भीतर की दुनिया जानने की कोशिश कर दी है। इसके तहत एक रोबोट ने पिरामिड के बाहरी दरवाज़े में तो छेद बना दिया लेकिन इसके बाद खड़े एक और दरवाज़े के सामने घुटने टेक दिए. 'पिरामिड रोवर' नाम के इस रोबोट में एक छोटा सा कैमरा लगा था. वैज्ञानिक इस कैमरे से ली गई तस्वीरों को देखने बाद ही पिरामिड के अंदर झाँकने की अगली कोशिश करेंगे.
बारह सेंटीमीटर के इस रोबोट को लगभग 65 मीटर लंबी एक सुरंग के ज़रिए पिरामिड की पहली दरवाज़े तक पहुँचाया गया. देखते ही देखते रोबोट ने इस दरवाज़े में छेद बना दिया और उस पार झाँकने के लिए एक कैमरा इस छेद में डाल दिया. लेकिन वैज्ञानिकों की आशा के विपरीत कैमरे के सामने एक और दरवाज़ा था.पिरामिड रोवर ने इस दीवार में छेद बनाने की कोशिश तो की लेकिन उसे सफलता नहीं मिली.
दरअसल 1993 में एक जर्मन पुरात्तवविद् ने एक कैमरे के साथ एक रोबोट को उस सुरंग में अंदर भेजा था. साठ मीटर की दूरी तो उस रोबोट ने ठीक से तय कर ली लेकिन उसके बाद वह जा टकराया एक दरवाज़े से. पिरामिड रोवर ने पहले दरवाज़ा तो तोड़ दिया है लेकिन दूसरे दरवाज़े के पार झाँकने के लिए उसे फिर से लौटना पड़ेगा. लेकिन क्या पता उसके आगे एक तीसरा, एक चौथा और......शायद कई और दरवाज़े हों?

राजा तूतनखामन का रहस्य सुलझाने का दावा

‘द इंडिपेंडेंट’ ने अपनी खबर में कहा है कि मिस्र के सुप्रीम काउंसिल ऑफ एंटीक्विटीज के एक दल ने डॉ. जाही अवास के नेतृत्व में फराओ की ममी पर पिछले 18 महीने से किए जा रहे डीएनए परीक्षण के परिणामों का खुलासा किया। डॉ. हवास ने कहा कि हम नहीं जानते कि तूतनखामन की मौत कैसे हुई। हमने डीएनए परीक्षण शुरू किया और हमने कई मजेदार खोज कीं। परिणामों की पुष्टि जरनल ऑफ अमेरिकन मेडिकल एसोसिएशन ने भी की है। वे सभी परिणामों को प्रकाशित करने जा रहे हैं। उससे हम जानेंगे कि तूतनखामन कौन था। लगभग नौ वर्ष की उम्र में राजा बनने वाले तूतनखामन उन चुनिंदा फराओ में शामिल थे, जिनकी लोग भगवान की तरह पूजा करते थे। (भाषा)

Secrets of Egypt's Lost Queen


http://dsc.discovery.com/convergence/quest/lost-queen/program/program.html

In what is being called the most important find in Egypt's Valley of the Kings since the discovery of King Tutankhamun's tomb, Discovery Channel's Secrets of Egypt's Lost Queen exclusively reveals archaeological, forensic and scientific evidence identifying a 3,000-year-old mummy as Hatshepsut, Egypt's greatest female Pharaoh.

More powerful than Cleopatra or Nefertiti, Hatshepsut stole the throne from her young stepson, dressed herself as a man, and in an unprecedented move, declared herself Pharaoh. Though her power stretched across Egypt and her reign was prosperous, Hatshepsut's legacy was systematically erased from Egyptian history — historical records were destroyed, monuments torn down and her corpse removed from her tomb.

The film follows a team of top forensic experts and archaeologists led by Dr. Zahi Hawass, Egypt's secretary general of the Supreme Council of Antiquities, as they use the full range of forensic technology to identify Hatshepsut.

The investigative journey of Dr. Hawass and his team led them through the massive crypts beneath Egypt and into the depths of the Cairo Museum. Using knowledge of royal Egyptian mummification and clues from two known tombs linked to Hatshepsut, the team narrowed their search for Hatshepsut to just four mummies from thousands of unidentified corpses.

Computed tomography (CT) scans allowed the scientists to link distinct physical traits of the Hatshepsut mummy to that of her ancestors. The search was further narrowed to two possibilities — both from the tomb of Hatshepsut's nanny — but the final clue lay within a canopic box inscribed with the female Pharaoh's name. A scan of the box found a tooth that, when measured, perfectly matched a missing upper molar in one of the two mummies.

"The discovery of the Hatshepsut mummy is one of the most important finds in the history of Egypt," said Dr. Hawass. "Her reign during the 18th Dynasty of ancient Egypt was a prosperous one, yet mysteriously she was erased from Egyptian history. Our hope is that this mummy will help shed light on this mystery and on the mysterious nature of her death."

Applied Biosystems and Discovery Quest, part of Discovery Channel's initiative to support the scientific community's work, funded the construction and equipment for the first-ever DNA testing facility located outside the Cairo Museum in Egypt for the program. The DNA testing facility will not only be used to extract and compare the mitochondrial DNA of the Hatshepsut mummy and mummies from her family, but will also be used by scientists to examine future finds in Egypt.

Zahi Hawass currently serves as secretary general of the Supreme Council of Antiquities and director of excavations at Giza, Saqqara and the Bahariya Oasis.

Dr. Hawass is responsible for many recent discoveries in Egypt, including the tombs of the pyramid builders at Giza. He discovered the satellite pyramid of Khufu and revealed the secrets behind the so-called doors found inside the pyramid. He also excavated at Bahariya Oasis, where he discovered the Valley of the Golden Mummies. He also found the tombs of the governor of Bahariya and his family under the houses in the town of El-Bawiti. His excavations at Saqqara revealed many discoveries around the pyramid of Teti, such as the tomb of the physician Qar, and the rediscovery of the "headless pyramid." He led an Egyptian team in the examination of the mystery of King Tut’s mummy through the use of a CT scan.

Hawass is extremely concerned about the conservation and protection of Egypt’s monuments. He has carried out a major conservation project on the Great Sphinx and developed management plans for a number of important sites, including the "unfinished obelisk" quarry in Aswan and the temples of Kom Ombo, Edfu and Dendera. Currently, he is completing plans for the West Bank of Luxor, Giza and Saqqara.

Dr. Hawass' dynamic personality and extensive knowledge have sparked global interest in ancient Egypt. He has brought the world of the Pharaohs into the homes and hearts of people all over the world through his numerous television appearances and books for general audiences. Over the course of his long career, Dr. Hawass has received numerous awards and honors, including TIME Magazine's "Top 100 Most Influential People" for the year 2005. Most recently, Dr. Hawass was instrumental in sending King Tutankhamun back to the United States.

Egyptologist Dr. Kara Cooney has appeared on many television programs and talk shows discussing ancient Egypt. She is an authority on the ancient language of late Egyptian, particularly hieratic ostraca and papyri from the village of Deir el Medina. Visually, she specializes in coffins and funerary art of the Ramesside period.

During the summer of 2003, Cooney worked on the return of the King Tut exhibition to the Los Angeles County Museum of Art, as well as researched a number of Egyptian pieces for inclusion in the Museum Loan Network database. She was also involved with the installation of the Cairo Museum exhibit "Quest for Immortality: Treasures of Ancient Egypt," which opened at the National Gallery of Art in Washington D.C. (where she was the Samuel H. Kress fellow) in the summer of 2002.

Cooney is currently a postdoctoral teaching fellow at Stanford University and is revising her dissertation, "The Value of Private Funerary Art in Ramesside Period Egypt," for publication. She is also working on a number of research interests, including the gender issues of death in ancient Egypt, craft specialization and funerary arts in the ancient world, the Nubian 25th Dynasty's racial identity and political legitimating process, and the socioeconomic understanding of death rituals and associated material culture in ancient Egypt. She has taught courses at Howard University and UCLA in Egyptian religion, language, literature, art and archaeology.

पिरामिड का जादुई प्रभाव

मिस्र के पिरामिड अपने भीमकाय आकार, अनूठी संरचना और मजबूती के लिए तो जगत्‌ प्रसिद्ध हैं ही, लेकिन उससे भी कहीं अधिक प्रसिद्ध हैं अपने जादुई प्रभाव के लिए। वैज्ञानिक प्रयोगों द्वारा यह प्रमाणित हो गया है कि पिरामिड के अंदर विलक्षण किस्म की ऊर्जा तरंगें लगातार काम करती रहती हैं, जो जड़ (निर्जीव) और चेतन (सजीव) दोनों ही प्रकार की वस्तुओं पर प्रभाव डालती हैं। वैज्ञानिकों ने पिरामिड के इस गुण को 'पिरामिड पॉवर' की संज्ञा दी है। पिरामिड चिकित्सा द्वारा विभिन्न रोगों के उपचार से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण परीक्षणों से प्राप्त नतीजे इस प्रकार हैं-

* सिर दर्द एवं दाँत दर्द के रोगियों को पिरामिड के अंदर बैठने पर दर्द से छुटकारा मिल जाता है। 'पिरामिड पॉवर' के आधुनिक खोजकर्ता स्वयं बोबिस ने पिरामिड के आकार की टोपी बनाई और पहनकर आजमाया। बोबिस का कहना है कि इसको पहनने से सिर दर्द तो दूर हो ही जाता है, साथ ही कई प्रकार के मानसिक विकार भी दूर हो जाते हैं।

* मानसिक तनाव से परेशान एक युवती ने पिरामिड के अंदर कुछ समय के लिए सोना शुरू कर दिया तो शीघ्र ही वह अच्छी नींद सोने लगी। दरअसल कुछ मिनट के लिए पिरामिड के अंदर बैठने से शरीर का संतुलन ठीक हो जाता है, जिसके चलते तनाव दूर हो जाता है।

* घाव, छाले, खरोच आदि पिरामिड के अंदर बैठने से बहुत जल्दी ठीक हो जाते हैं।

* पिरामिड के अंदर रखे जल को पीने से टॉन्सिल की समस्या से छुटकारा मिलता है, आँखों को धोने से उसकी ज्योति बढ़ती है, पाचन क्रिया में सुधार होता है, घुटनों पर मलने से घुटनों, का दर्द दूर हो जाता है।

* एक परीक्षण के दौरान कुत्तों को चौकोर, गोल और पिरामिड के आकार के घरों में रखा गया। बाद में यह पाया गया कि पिरामिड के आकार के घरों में रहने वाले कुत्ते अधिक समझदार, अधिक आज्ञाकारी निकले और उनका स्वास्थ्य भी बेहतर हो गया।
* पिरामिड के अंदर किसी तरह की आवाज या संगीत बजाने पर बड़ी देर तक उसकी आवाज गूँजती रहती है। इससे वहाँ उपस्थित लोगों के शरीर पर विचित्र प्रकार के कम्पन पैदा होते हैं, जो मन और शरीर दोनों को शांति प्रदान करते हैं।

* जब कोई थका हुआ आदमी कुछ ही मिनटों के लिए पिरामिड में बैठता है, तो उसकी थकान दूर हो जाती है और वह शरीर में एक नई शक्ति का संचार महसूस करता है।

* साधना करने वालों ने पिरामिड के अंदर ध्यान लगाने के बाद दावा किया कि इसके अंदर बैठने से मन बहुत जल्दी एकाग्र हो जाता है। पिरामिड में बैठने से इच्छा शक्ति भी दृढ़ होती है।

* अनिद्रा की बीमारी दूर होती है व शराब पीने की आदत एवं नशीले पदार्थों के सेवन की लत को भी प्रतिदिन थोड़ी-थोड़ी देर के लिए पिरामिड के अंदर बैठकर छुड़ाया जा सकता है।

* प्रतिदिन पाँच से दस मिनट के लिए पिरामिड के अंदर बैठने से इच्छा शक्ति दृढ़ होती है। थके हुए व्यक्ति को सिर्फ दस मिनट के लिए पिरामिड के अंदर बैठा दिया जाए तो उसकी थकावट दूर हो जाती है और वह खुद को तरोताजा अनुभव करने लगता है।

* बीजों को बोने के पहले अगर थोड़ी देर के लिए पिरामिड के अंदर रख दिया जाए तो वे जल्दी और अच्छी तरह से अंकुरित होते हैं। बीमार और सुस्त पौधों को भी पिरामिड द्वारा ठीक और उत्तेजित किया जा सकता है।

डायनासोरों को खा जाने वाला साँप

http://www.bbc.co.uk/hindi/science/2010/03/100303_danosaur_snake-ra.shtml

  अहमदाबाद से 130 किमी दूर धोली डुंगरी गाँव से वैज्ञानिकों ने साँप, डायनासोर और उसके अंडों के जीवाश्म खोज निकाले हैं. वैज्ञानिकों का कहना है कि इन अवशेषों और जीवाश्मों से ये साफ़ पता चलता है कि क़रीब 6.7 करोड़ साल पहले एक विशेष प्रजाति के साँप और डायनासोर साथ-साथ रहते थे.
ये साँप बड़े डायनासोरों को नहीं बल्कि उनके अंडों से निकले बच्चों को खाते थे. वे बच्चों के ऊपर कुंडली मार लेते थे और उन्हें मारकर निगल जाते थे. साँप और डायनासोर के इन अवशेष और जीवाश्मों को खोजा है भारतीय भूगर्भ सर्वेक्षण के वैज्ञानिक डॉक्टर धनंजय मोहाबे ने. डॉक्टर धनंजय कहते हैं, ''समय के गर्भ में छिपे इस पल को खोजना बहुत रोमांचक था.'' मिशिगन विश्वविद्यालय और टोरंटो के मिसिसॉगा विश्वविद्यालय के विशेषज्ञों ने इसका अध्ययन और पुष्टि की है. यह अध्ययन पीएलओएस (पब्लिक लाइब्रेरी ऑफ़ साइंस) बॉयोलाजी जर्नल के दो मार्च के इंटरनेट संस्करण में प्रकाशित हुआ है. भारत में पाए जाने वाले अजगर जैसा ये साँप जो डायनासोर का शिकार कर लेता था, इसे नाम दिया गया है, सनाजेह इंडिकस. अध्ययन के मुताबिक़ ये प्राचीन साँपों के खाने की आदतों के बारे में पहला प्रत्यक्ष प्रमाण है. जिस साँप का जीवाश्म मिला है, वह साढ़े तीन मीटर लंबा है और डायनासोर के एक बच्चे के चारों ओर लिपटा हुआ है. एक व्यस्क शाकाहारी डायनासोर का वजन क़रीब सौ टन होता था.

बहुत से लोग साँप से डरते हैं लेकिन इस शोध से पता चलता है कि विशालकाय डायनासोर भी साँपों से डरते थे. शोधकर्ताओं का कहना है कि इन सांपों के जीवाश्म में आधुनिक साँपों की तरह गतिशील जबड़े नहीं हैं, इसलिए ऐसा लगता है कि इसे डायनासोर के अंडों को खाने के लिए काफ़ी मशक्कत करनी पड़ती होगी.
जीवाश्म को 1987 में खोजा गया था. लेकिन इसे तब तक मान्यता नहीं मिली जब तक अमरीकी वैज्ञानिकों ने ये नहीं कह दिया कि डायनासोर के अंडों के बीच एक साँप भी था. शोधकर्ताओं का मानना है कि साँप ने हमला तब किया होगा जब अंडों से छोटे डायनासोर निकले होंगे. आज जो प्रमाण मिले हैं वे तूफ़ान जैसे किसी प्राकृतिक आपदा के कारण बने होंगे, इससे यह पूरा परिदृश्य समय की परतों में जम गया होगा.

नष्ट हो रहे हैं ऐतिहासिक साक्ष्य ?

अमृतसर. जिले के टूरिज्म को विकसित करने के साथ पुलकंजरी को करीब ढाई करोड़ की लागत से संरक्षित किया गया। इसकी खुदाई के दौरान पोट्री, खिलौने, दीये आदि मिले थे। यह मुगलकालीन सभ्यता के चश्मदीद गवाह थे। इनको उस वक्त बोरियों में भरकर रखा गया था, बाद में यह कहां गए कोई पता नहीं चला।

हालांकि, उस दौरान कई पुरातत्वविदों ने सवाल उठाया था, मगर ध्यान नहीं दिया गया। इसी तरह से उड़दन कलां की खुदाई में सिक्के ढालने वाली मिट्टी की डाइयां, पहलवानों के मुकदर, पोट्री समेत अन्य सामान भी मिले थे। डाइयों के जार्ज पंचम के दौर के होने का अनुमान है। बताया तो यहां तक जा रहा है कि इनमें से ज्यादा सामान स्थानीय लोगों ने अज्ञानतावश या तो फैंक दिया या फिर बेंच दिया।

ऐसा ही हाल हर्षाछीना व बंडाला की खुदाइयों में मिले सामानों का हुआ है। इन जगहों पर तो छह हजार साल पुरानी सभ्यता के प्रमाण मिले थे और इनको निजी तौर पर कुछ लोगों ने संरक्षित भी किया, मगर प्रशासन व अन्य जिम्मेदार विभाग इनको संभालने में नाकाम रहे।

जिले की घरोहरों के संरक्षण व संवर्धन का जो काम हो रहा है वह एक ही कंपनी के हाथों में सिमट कर रह गया है। इसको लेकर विगत में कई बार विवाद मुखर हुआ और लोगों ने ऐसी साइटों पर नानकशाही ईंटों की जगह आम ईंटों को लगाने का विरोध भी किया था। हालांकि गीतिका कल्लां ( सेक्रेटरी टूरिज्म पंजाब ) का कहना है कि किसी भी खुदाई में कोई सामान नहीं मिला, अगर भविष्य में कहीं कुछ मिलता है तो उसे सहेज कर रखा जाएगा और उसे लोगों को दिखाने की भी व्यवस्था की जाएगी।

इस संदर्भ में इतिहासकार हरनेक सिंह का कहना है कि खुदाई में जो भी सामग्री मिलती है वह ऐतिहासिक व पुरातात्विक नजरिए से अहम होती है। इसे संभाल कर रखने से हम अपने अतीत की गहन जानकारी हासिल कर सकते हैं। प्रसिद्ध पुरातत्ववेत्ता देव दर्द का कहना है कि यह हमारा दुर्भाग्य है कि हम संरक्षण की बात तो करते हैं, मगर आर्कियोलाजी के मानकों को नजर अंदाज कर जाते हैं। इसके चलते हमारे हाथों से ऐसे प्रमाण खिसकते जा रहे हैं जो हमारे अतीत के असल गवाह हैं।



नष्ट हो रही है हजारों साल पुरानी सभ्यता

महम. फरमाणा व सैमाण के बीच दक्षखेड़ा के पास मिले पांच हजार साल पुरानी सभ्यता के अवशेष नष्ट हो रहे हैं। बारिश के पानी से उत्खनित स्थल की मिट्टी बह गई। घास उगने से इलाका चरागाह बन गया है। दिनभर पशु विचरण करते हैं। हड़प्पाकालीन बस्ती व कब्रिस्तान के आसपास के इलाके में तो किसानों ने हल चलाना भी आरंभ दिया है। दक्षखेड़ा स्थल पर आरंभिक व विकसित हड़प्पाकाल की बस्तियां निकल चुकी हैं, जबकि नजदीक ही इस काल की अब तक सत्तर कब्रें खोजी जा चुकी हैं। 15 दिसंबर 2008 से 31 मार्च 2009 तक यहां रिसर्च इंस्टीच्यूट ऑफ ह्यूमन एंड नेचर क्योटो जापान, डेक्कन कालेज पूना व मदवि रोहतक के संयुक्त तत्वावधान में उत्खनन हुआ था। इस दौरान इस स्थल पर दुनिया के प्रसिद्ध पुरातत्ववेता व शोधकर्ता पहुंचे थे। पुरातत्व विभाग की प्रदेश की तत्कालीन मंत्री मीना मंडल ने इस स्थल का दौरा किया था। भारतीय पुरातत्व विभाग के निदेशक ने इस स्थल को अत्यंत महत्वपूर्ण पुरास्थल बताया था। उस समय दावा किया गया था कि शीघ्र ही इस स्थल का अधिग्रहण किया जाएगा। यहां म्यूजियम बनाया जाएगा। इसके विपरित वर्तमान स्थिति यह है कि पुरातत्ववेताओं ने कई महीनों के प्रयासों से जो अवशेष निकाले थे, वे ही खतरे में हैं।

इस स्थल को प्रदेश के पुरातत्व विभाग ने केवल कागजों में संरक्षित किया हुआ है। इस संबंध में विभाग ने तो नोटिफिकेशन कर दिया, किसानों को कोई नोटिस नहीं मिला है। स्थल के महत्व को देखते हुए यहां कोई चौकीदार भी नहीं रखा गया। कोई तार या बाड़ भी नहीं लगाई गई। डा. मनमोहन सिंह, सहनिदेशक उत्खनन टीम, दक्षखेड़ा का कहना है कि इस महत्वपूर्ण पुरास्थल पर चौकीदार रखा जाना चाहिए। इस स्थल पर प्रवेश से रोकने का अधिकार मुझे नहीं है।
Post a Comment

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...