Tuesday, November 24, 2009

खबरों में इतिहास ( भाग-२ )

  अक्सर इतिहास से संबंधित छोटी-मोटी खबरें आप तक पहुंच नहीं पाती हैं। इस कमी को पूरा करने के लिए इतिहास ब्लाग आज से आपको  उन खबरों को संकलित करके पेश करेगा, जो इतिहास या मिथकीय इतिहास से संबंधित होंगी। मूल रूप में देने के साथ इन खबरों का मूल लिंक भी रहेगा ताकि आपको मूल स्रोत का भी पता चल सके।

इस अंक के प्रमुख शीर्षक

1767 में स्थापित मां दुर्गा की प्रतिमा

श्रीराम की जन्म तिथि

रामसेतु तथा राम के युग की प्रामाणिकता

४५ हजार साल पुरानी है भारत की जाति व्यवस्था : शोध

India's caste system 'is thousands of years old', DNA shows

रामसेतु तथा राम के युग की प्रामाणिकता
हम भारतीय विश्व की प्राचीनतम सभ्यता के वारिस है तथा हमें अपने गौरवशाली इतिहास तथा उत्कृष्ट प्राचीन संस्कृति पर गर्व होना चाहिए। किंतु दीर्घकाल की परतंत्रता ने हमारे गौरव को इतना गहरा आघात पहुंचाया कि हम अपनी प्राचीन सभ्यता तथा संस्कृति के बारे में खोज करने की तथा उसको समझने की इच्छा ही छोड़ बैठे। परंतु स्वतंत्र भारत में पले तथा पढ़े-लिखे युवक-युवतियां सत्य की खोज करने में समर्थ है तथा छानबीन के आधार पर निर्धारित तथ्यों तथा जीवन मूल्यों को विश्व के आगे गर्वपूर्वक रखने का साहस भी रखते है। श्रीराम द्वारा स्थापित आदर्श हमारी प्राचीन परंपराओं तथा जीवन मूल्यों के अभिन्न अंग है। वास्तव में श्रीराम भारतीयों के रोम-रोम में बसे है। रामसेतु पर उठ रहे तरह-तरह के सवालों से श्रद्धालु जनों की जहां भावना आहत हो रही है,वहीं लोगों में इन प्रश्नों के समाधान की जिज्ञासा भी है। हम इन प्रश्नों के उत्तर खोजने का प्रयत्‍‌न करे:- श्रीराम की कहानी प्रथम बार महर्षि वाल्मीकि ने लिखी थी। वाल्मीकि रामायण श्रीराम के अयोध्या में सिंहासनारूढ़ होने के बाद लिखी गई। महर्षि वाल्मीकि एक महान खगोलविद् थे। उन्होंने राम के जीवन में घटित घटनाओं से संबंधित तत्कालीन ग्रह, नक्षत्र और राशियों की स्थिति का वर्णन किया है। इन खगोलीय स्थितियों की वास्तविक तिथियां 'प्लैनेटेरियम साफ्टवेयर' के माध्यम से जानी जा सकती है। भारतीय राजस्व सेवा में कार्यरत पुष्कर भटनागर ने अमेरिका से 'प्लैनेटेरियम गोल्ड' नामक साफ्टवेयर प्राप्त किया, जिससे सूर्य/ चंद्रमा के ग्रहण की तिथियां तथा अन्य ग्रहों की स्थिति तथा पृथ्वी से उनकी दूरी वैज्ञानिक तथा खगोलीय पद्धति से जानी जा सकती है। इसके द्वारा उन्होंने महर्षि वाल्मीकि द्वारा वर्णित खगोलीय स्थितियों के आधार पर आधुनिक अंग्रेजी कैलेण्डर की तारीखें निकाली है। इस प्रकार उन्होंने श्रीराम के जन्म से लेकर 14 वर्ष के वनवास के बाद वापस अयोध्या पहुंचने तक की घटनाओं की तिथियों का पता लगाया है। इन सबका अत्यंत रोचक एवं विश्वसनीय वर्णन उन्होंने अपनी पुस्तक 'डेटिंग द एरा ऑफ लार्ड राम' में किया है। इसमें से कुछ महत्वपूर्ण उदाहरण यहां भी प्रस्तुत किए जा रहे है।

श्रीराम की जन्म तिथि

महर्षि वाल्मीकि ने बालकाण्ड के सर्ग 18 के श्लोक 8 और 9 में वर्णन किया है कि श्रीराम का जन्म चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि को हुआ। उस समय सूर्य,मंगल,गुरु,शनि व शुक्र ये पांच ग्रह उच्च स्थान में विद्यमान थे तथा लग्न में चंद्रमा के साथ बृहस्पति विराजमान थे। ग्रहों,नक्षत्रों तथा राशियों की स्थिति इस प्रकार थी-सूर्य मेष में,मंगल मकर में,बृहस्पति कर्क में, शनि तुला में और शुक्र मीन में थे। चैत्र माह में शुक्ल पक्ष नवमी की दोपहर 12 बजे का समय था।

जब उपर्युक्त खगोलीय स्थिति को कंप्यूटर में डाला गया तो 'प्लैनेटेरियम गोल्ड साफ्टवेयर' के माध्यम से यह निर्धारित किया गया कि 10 जनवरी, 5114 ई.पू. दोपहर के समय अयोध्या के लेटीच्यूड तथा लांगीच्यूड से ग्रहों, नक्षत्रों तथा राशियों की स्थिति बिल्कुल वही थी, जो महर्षि वाल्मीकि ने वर्णित की है। इस प्रकार श्रीराम का जन्म 10 जनवरी सन् 5114 ई. पू.(7117 वर्ष पूर्व)को हुआ जो भारतीय कैलेण्डर के अनुसार चैत्र मास की शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि है और समय 12 बजे से 1 बजे के बीच का है।

श्रीराम के वनवास की तिथि

वाल्मीकि रामायण के अयोध्या काण्ड (2/4/18) के अनुसार महाराजा दशरथ श्रीराम का राज्याभिषेक करना चाहते थे क्योंकि उस समय उनका(दशरथ जी) जन्म नक्षत्र सूर्य, मंगल और राहु से घिरा हुआ था। ऐसी खगोलीय स्थिति में या तो राजा मारा जाता है या वह किसी षड्यंत्र का शिकार हो जाता है। राजा दशरथ मीन राशि के थे और उनका नक्षत्र रेवती था ये सभी तथ्य कंप्यूटर में डाले तो पाया कि 5 जनवरी वर्ष 5089 ई.पू.के दिन सूर्य,मंगल और राहु तीनों मीन राशि के रेवती नक्षत्र पर स्थित थे। यह सर्वविदित है कि राज्य तिलक वाले दिन ही राम को वनवास जाना पड़ा था। इस प्रकार यह वही दिन था जब श्रीराम को अयोध्या छोड़ कर 14 वर्ष के लिए वन में जाना पड़ा। उस समय श्रीराम की आयु 25 वर्ष (5114- 5089) की निकलती है तथा वाल्मीकि रामायण में अनेक श्लोक यह इंगित करते है कि जब श्रीराम ने 14 वर्ष के लिए अयोध्या से वनवास को प्रस्थान किया तब वे 25 वर्ष के थे।


खर-दूषण के साथ युद्ध के समय सूर्यग्रहण

वाल्मीकि रामायण के अनुसार वनवास के 13 वें साल के मध्य में श्रीराम का खर-दूषण से युद्ध हुआ तथा उस समय सूर्यग्रहण लगा था और मंगल ग्रहों के मध्य में था। जब इस तारीख के बारे में कंप्यूटर साफ्टवेयर के माध्यम से जांच की गई तो पता चला कि यह तिथि 5 अक्टूबर 5077 ई.पू. ; अमावस्या थी। इस दिन सूर्य ग्रहण हुआ जो पंचवटी (20 डिग्री सेल्शियस एन 73 डिग्री सेल्शियस इ) से देखा जा सकता था। उस दिन ग्रहों की स्थिति बिल्कुल वैसी ही थी, जैसी वाल्मीकि जी ने वर्णित की- मंगल ग्रह बीच में था-एक दिशा में शुक्र और बुध तथा दूसरी दिशा में सूर्य तथा शनि थे।

अन्य महत्वपूर्ण तिथियां

किसी एक समय पर बारह में से छह राशियों को ही आकाश में देखा जा सकता है। वाल्मीकि रामायण में हनुमान के लंका से वापस समुद्र पार आने के समय आठ राशियों, ग्रहों तथा नक्षत्रों के दृश्य को अत्यंत रोचक ढंग से वर्णित किया गया है। ये खगोलीय स्थिति श्री भटनागर द्वारा प्लैनेटेरियम के माध्यम से प्रिन्ट किए हुए 14 सितंबर 5076 ई.पू. की सुबह 6:30 बजे से सुबह 11 बजे तक के आकाश से बिल्कुल मिलती है। इसी प्रकार अन्य अध्यायों में वाल्मीकि द्वारा वर्णित ग्रहों की स्थिति के अनुसार कई बार दूसरी घटनाओं की तिथियां भी साफ्टवेयर के माध्यम से निकाली गई जैसे श्रीराम ने अपने 14 वर्ष के वनवास की यात्रा 2 जनवरी 5076 ई.पू.को पूर्ण की और ये दिन चैत्र महीने के शुक्ल पक्ष की नवमी ही था। इस प्रकार जब श्रीराम अयोध्या लौटे तो वे 39 वर्ष के थे (5114-5075)।

वाल्मीकि रामायण के अनुसार श्रीराम की सेना ने रामेश्वरम से श्रीलंका तक समुद्र के ऊपर पुल बनाया। इसी पुल को पार कर श्रीराम ने रावण पर विजय पाई। हाल ही में नासा ने इंटरनेट पर एक सेतु के वो अवशेष दिखाए है, जो पॉक स्ट्रेट में समुद्र के भीतर रामेश्वरम(धनुषकोटि) से लंका में तलाई मन्नार तक 30 किलोमीटर लंबे रास्ते में पड़े है। वास्तव में वाल्मीकि रामायण में लिखा है कि विश्वकर्मा की तरह नल एक महान शिल्पकार थे जिनके मार्गदर्शन में पुल का निर्माण करवाया गया। यह निर्माण वानर सेना द्वारा यंत्रों के उपयोग से समुद्र तट पर लाई गई शिलाओं, चट्टानों, पेड़ों तथा लकड़ियों के उपयोग से किया गया। महान शिल्पकार नल के निर्देशानुसार महाबलि वानर बड़ी-बड़ी शिलाओं तथा चट्टानों को उखाड़कर यंत्रों द्वारा समुद्र तट पर ले आते थे। साथ ही वो बहुत से बड़े-बड़े वृक्षों को, जिनमें ताड़, नारियल,बकुल,आम,अशोक आदि शामिल थे, समुद्र तट पर पहुंचाते थे। नल ने कई वानरों को बहुत लम्बी रस्सियां दे दोनों तरफ खड़ा कर दिया था। इन रस्सियों के बीचोबीच पत्थर,चट्टानें, वृक्ष तथा लताएं डालकर वानर सेतु बांध रहे थे। इसे बांधने में 5 दिन का समय लगा। यह पुल श्रीराम द्वारा तीन दिन की खोजबीन के बाद चुने हुए समुद्र के उस भाग पर बनवाया गया जहां पानी बहुत कम गहरा था तथा जलमग्न भूमार्ग पहले से ही उपलब्ध था। इसलिए यह विवाद व्यर्थ है कि रामसेतु मानव निर्मित है या नहीं, क्योंकि यह पुल जलमग्न, द्वीपों, पर्वतों तथा बरेतीयों वाले प्राकृतिक मार्गो को जोड़कर उनके ऊपर ही बनवाया गया था।



1767 में स्थापित मां दुर्गा की प्रतिमा

वाराणसी। उत्तर प्रदेश की धार्मिक नगरी वाराणसी के मदनपुरा क्षेत्र में एक बंगाली परिवार की ओर से सन 1767 में स्थापित मां दुर्गा की प्रतिमा का अभी भी विसर्जन नहीं किया गया है। दुर्गा प्रतिमा की देख-रेख आज भी मुखर्जी परिवार पारंपरिक रूप से करता है। हजारों लोग प्रतिमा का दर्शन विशेषकर रात्रि में प्रतिदिन करते हैं। प्रतिमा में वही आकर्षण आज भी है जो 1767 में स्थापित होने के समय थी। परिवार के मुखिया प्रशान्त कुमार मुखर्जी बिजली विभाग में जूनियर इंजीनियर है। उन्होंनें कहा कि उनके परिवार के लोग पश्चिम बंगाल के हुगली जिले से आकर वर्षों पहले यहां बस गये थे। सन 1767 में शारदीय नवरात्रि में दुर्गा जी की प्रतिमा घर में स्थापित की गयी। नवरात्रि भर देवी की पारम्परिक ढंग से पूजा होती रही, लेकिन नवरात्रि के अंतिम दिन जब गंगा में विसर्जन के लिये मां दुर्गा की प्रतिमा उठाई जाने लगी तो वह टस से मस नहीं हुई। प्रतिमा को उठाने के लिये दर्जनों लोगों ने मिलकर प्रयास किया लेकिन वह हिली तक नहीं।उस दिन परिवार वालों ने प्रतिमा के विसर्जन करने का फैसला छोड़ दिया। तभी से मां दुर्गा उसी स्थान पर विराजमान है और पारम्परिक ढंग से आज भी प्रतिदिन पूजा हो रही है। मुखर्जी परिवार ने पूजा पाठ के लिये पुजारी रखा है। सिंह पर सवार मां दुर्गा तथा उनके बगल में विराजमान लक्ष्मी, गणेश, सरस्वती और कार्तिकेय की मूर्तियां मिट्टी, पुआल और बांस से बनी है। प्रतिमा को देखने से ऐसा लगता है कि अभी-अभी कोई बनाकर गया है। प्रतिमा में आज भी वही आकर्षण है जो 242 साल पहले था। प्रतिमा का दर्शन करने के बाद लोग अपने को धन्य मानते हैं। कुछ लोग तो मनौतियां भी मानते है और मां की कृपा से उनकी मनोकामना पूरी होती है यह दावा है प्रशान्त कुमार मुखर्जी का।

दुर्गा जी की प्रतिमा के साथ में काले रंग के पत्थर से बनी विष्णु भगवान की प्रतिमा स्थापित है। इसी के साथ ही साथ मंदिर मे 12 शिवलिंग स्थापित हैं जो मकान बनवाते समय जमीन से मुखर्जी परिवार को मिले थे। मुखर्जी ने बताया कि पूजा पाठ के लिये अलग से पुजारी रखा गया है जो प्रतिदिन आकर विधि विधान से मां दुर्गा की पूजा करता है। उन्होंने कहा कि जरूरत पड़ने पर मां दुर्गा समेत अन्य प्रतिमाओं की मरम्मत और रंगाई होती है। प्रत्येक पूजा पर भक्तों को प्रसाद बांटा जाता है।



४५ हजार साल पुरानी है भारत की जाति व्यवस्था : शोध

भारतीय जनसंख्या दो पुश्तों की आबादी का मिश्रण है। एक ताजा अध्ययन में यह बात सामने आई है। हैदराबाद स्थित सेंटर फॉर सेल्युलर एण्ड मॉलीक्यूलर बायोलॉजी :सीसीएमबी: का हार्वर्ड मेडिकल स्कूल, हार्वर्ड स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ और ब्रॉड इंस्टीट्यूट ऑफ हार्वर्ड और एमआईटी के सहयोग से किया गया यह अध्ययन जीनोम आधारित पहला तथा सबसे बड़ा शोध माना जा रहा है। शोध दल के सदस्य लालजी सिंह ने एक प्रेस कांफ्रेंस में कहा ‘‘यह अध्ययन बताता है कि भारत महज एक तरह की आबादी वाला मुल्क नहीं बल्कि बहुविध जनसंख्या वाला देश है।’’ सिंह ने कहा कि अंडमान के लोगों को छोड़ दें तो मौजूदा भारतीय जनसंख्या पैतृक उत्तर भारतीय :एएनआई: और पैतृक दक्षिण भारतीय :एएसआई: आबादी का मिश्रण है। उन्होंने कहा कि जीनोम विश्लेषण सेपता चला है कि आज की आबादी ४५००० साल पुरानी उत्तर व दक्षिण की दो पैतृक आबादियों का मिश्रण है। शोध से दो पैतृक आबादियां एएनआई और एएसआई के बारे में पता लगा है।शोध से यह बात भी सामने आई है कि आधुनिक मानव जातियां अफ्रीका से दक्षिण, मध्य व दक्षिण एशियाकी तरफ करीब ७०००० हजार वर्ष पहले कूच करना शुरू किया था। भारत में 4635 तरह की परिभाषित आबादियां हैं जिनमें 532 आदिवासी जातियां और 72 आदिम आदिवासी जातियां शामिल हैं। इस शोध के नतीजे अंतरराष्ट्रीय विज्ञान पत्रिका ‘नेचर’ के ताजा अंक में प्रकाशित हुए हैं। सिंह ने कहा कि भारत में जाति प्रथा कई युगों से चली आ रही है। उन्होंने कहा कि तथाकथित आर्य लोग कहीं बाहर से नहीं आए थे बल्कि वे भारत में ही रहते थे। ‘‘हमारा अध्ययन मैक्स म्यूलर के सिद्धांत को नहीं मानता।’’



Two roots for Indians G.S. MUDUR

A new genetic study has provided glimpses of India’s population patterns from deeper in the past than before, revealing the existence of two distinct, ancestral populations in the country about 45,000 years ago. Indian and US scientists have used human genes to explore a largely uncharted domain of prehistoric populations and shown that nearly all Indians are descendants in varying genetic proportions of these two distinct populations. The researchers also found that after the ancient admixture, endogamy has shaped marriage patterns in India for thousands of years, predating the caste system.

They analysed more than 560,000 genetic markers from the genomes of 132 Indians representing 25 population groups, six language families and several castes and tribes. The findings will appear in the journal Nature on Thursday. The study has suggested two ancient populations — ancestral North Indians and ancestral South Indians — that had diverged from older population groups, derived from the earliest modern humans who trudged out of Africa some 70,000 years ago.

“They appear to be progenitor populations — nearly all the groups we studied have descended from mixtures of the two,” said Kumarasamy Thangaraj, a co-author and senior scientist at the Centre for Cellular and Molecular Biology (CCMB), Hyderabad. Thangaraj and Lalji Singh from the CCMB collaborated with scientists at the Broad Institute of Harvard and the Massachusetts Institute of Technology to study variations of a large number of genetic markers in individuals from different population groups. The patterns of variation can provide information about genetic distances between the groups and their history.

The genetic patterns suggest that most present-day Indian population groups have inherited 39 per cent to 71 per cent of their ancestry from the ancestral North Indians who are genetically close to central Asians or Eurasians. The balance comes from ancestral South Indians who do not appear to share genetic proximity with any group outside India. “The ancestral South Indians may have diverged from the earliest of modern humans to arrive in India,” Thangaraj said.

The new study was not designed to explore how far back in time the distinct populations arrived, or when they began to mix. But the new data combined with earlier research would put the ancestral South Indians in India about 65,000 years ago and the ancestral North Indians about 20,000 years later.Although there is abundant archaeological evidence — rock shelters, stone tools and wooden spears — for prehistoric human settlements in India, population patterns and movements of the earliest modern humans in India remain unclear. “It seems to me that attempts to postulate a population pattern so far back in history, going back to before 10,000 BC, would have many uncertainties,” said Romila Thapar, emeritus professor of ancient Indian history at Jawaharlal Nehru University, Delhi. “Our data on population groups for such early periods is limited,” Thapar told The Telegraph.

Genetic studies by other research teams have indicated that modern humans began walking out of Africa into West Asia, central Asia and South Asia, about 70,000 years ago. The new study has also confirmed earlier findings from the CCMB that the Onges in the Andamans are the descendants of the first modern humans who moved out of Africa, but have remained isolated on the islands. The Onges appear exclusively related to the ancestral South Indians. “Understanding the origins of the Andamanese (tribes) could provide a window into the history of ancestral South Indians,” Nick Patterson, a mathematician and a team member from the Broad Institute, said in a statement.

The CCMB-Broad Institute study has shown that genetic contribution of ancestral North Indians is high in upper caste and Indo-European language speakers on the subcontinent — such as the Pathans from Pakistan or the Kashmiri Pandits, Vaish, Srivastava groups from India. But some tribal and lower caste groups appear closer to the ancestral South Indians. The study also indicated that four groups — the Onges from Andamans, the Siddhis from Karnataka, and the Nyshi and Ao Naga from the Northeast — have genetic proximity to populations outside India and do not have detectable contributions from either the ancestral North Indians or ancestral South Indians.



India's caste system 'is thousands of years old', DNA shows

India's caste system stretches back thousands of years and was not largely a creation of colonial rule, as some historians claim, a genetic study has shown.

Researchers analysed the DNA of 132 individuals with wide-ranging backgrounds from 25 diverse groups around India. They found evidence of strong inbreeding leading to genetic groups that had been isolated from each other for thousands of years. Most people had a mixture of genes from two ancient populations representing traditionally upper-caste individuals and everyone else. The first was genetically close to people from the Middle East, Central Asia and Europe, while the second had an 'Ancestral South Indian' lineage confined to the subcontinent. The research challenges the notion that India's notorious rigid caste system, with its priestly Brahmans and low-status 'untouchables', was largely manufactured by the British. Some historians claim that while a caste system of sorts had existed since ancient times, in its original form it was not hereditary or inflexible and allowed people to move up and down the social ladder.

It was the British who cemented the caste system into Indian society and culture by using it as a basis of a ''divide and rule'' policy, it is alleged. The caste system was a convenient means of keeping society under control. The new findings published in the journal Nature indicate that, genetically at least, Indians had been divided long before the British arrived. The scientists analysed more than 500,000 genetic markers from people representing 13 states, all six language families in India, traditionally ''upper'' and ''lower'' castes, and tribal groups. One group of Andaman islanders was, unusually, related exclusively to the Ancestral South Indian lineage.

Co-author Dr Nick Patterson, from the Harvard University/MIT Broad Institute in Massachusetts, US, said: ''The Andamanese are unique. Understanding their origins provides a window onto the history of the Ancestral South Indians, and the period tens of thousands of years ago when they diverged from other Eurasians.'' The research has important health implications for Indians. Other genetically isolated groups such as Ashkenazi Jews are well known to suffer from an increased incidence of genetic diseases. The same may be true for many groups in India, the scientists believe. "The finding that a large proportion of modern Indians descend from founder events means that India is genetically not a single large population, but instead is best described as many smaller isolated populations," said Dr Lalji Singh, one of the study leaders from the Centre for Cellular and Molecular Biology in Hyderabad, India.


India’s caste system descended from two tribes ‘not colonialism’

Mark Henderson Science Editor

Genetic profiling shows that the structure of Indian society today reflects early social groupings, not just colonialism India’s caste system is not a relic of colonialism but has existed in some form for thousands of years, the most comprehensive study yet of the genetic diversity of the sub-continent has suggested. The genetic profiles typical of modern castes are indistinguishable from those of much older tribal groups, Indian and American scientists have found. This suggests that they emerged from populations of shared ancestry who have married among themselves for many generations.

The researchers wrote in the journal Nature: “Some historians have argued that caste in modern India is an ‘invention’ of colonialism, in the sense that it became more rigid under colonial rule. However, our results indicate that many current distinctions among groups are ancient and that strong endogamy [marriage within a group] must have shaped marriage patterns in India for thousands of years.”

Kumarasamy Thangaraj, of the Centre for Cellular and Molecular Biology (CCMB) in Hyderabad, and a leader of the study, said: “It is impossible to distinguish castes from tribes using the data. The genetics proves that they are not systematically different. This supports the view that castes grew directly out of tribal-like organisations during the formation of Indian society.” Researchers analysed more than 500,000 genetic markers from 132 people from 25 different groups.

The research established that modern Indians of all castes are descended from two ancestral groups. Indians can trace between 39 per cent and 71 per cent of their ancestry to a population known as the Ancestral Northern Indians (ANI), who are quite closely related to Europeans and Asians. Those with a higher ancestral contribution from the ANI group are more likely to belong to higher castes, and to speak Indo-European languages such as Hindi and Bengali.

The other ancient population are the Ancestral Southern Indians (ASI), who are not genetically close to any group outside the sub-continent. People with a higher ASI ancestry are more likely to belong to lower castes, and to speak non Indo-European languages such as Tamil. The research, by scientists from CCMB in India and Harvard University and the Massachusetts Institute of Technology (MIT) in the United States, has also established that Indians are much more genetically diverse than Europeans.

This result indicates that many modern Indian groups are descended from a small number of “founding individuals”, whose descendants interbred among themselves to create genetically isolated populations. Lalji Singh, director of CCMB, said: “India is genetically not a single large population, but instead is best described as many smaller isolated populations.” This insight has important medical implications for people of Indian origin, because groups that are descended from small founding populations often have a high incidence of inherited diseases. Ashkenazi Jews, for example, have a high risk of Tay-Sachs disease.

This may explain why several genetic conditions are more common in India than elsewhere: a mutation in a gene called MYBPC3, which raises the risk of heart failure sevenfold, is found in 4 per cent of Indians but is exceptionally rare elsewhere. The only ethnic group who do not have this shared ancestry is the indigenous population of the Andaman Islands in the Indian Ocean, who appear to be of exclusively ASI descent.

Nick Patterson, of the Broad Institute of Harvard and MIT, said: “The Andamanese are unique. Understanding their origins provides a window on to the history of the Ancestral South Indians, and the period tens of thousands of years ago when they diverged from other Eurasians.” Mr Singh added: “Our project to sample the disappearing tribes of the Andaman Islands has been more successful than we could have hoped, as the Andamanese are the only surviving remnant of the ancient colonisers of South Asia.”

Aravinda Chakravarti, of Johns Hopkins School of Medicine in Baltimore, Maryland, wrote in a commentary for Nature: “Greater ANI ancestry is significantly associated with Indo-European speakers and with traditionally ‘higher’ caste membership. This provides a model of how diversity within India came about. As such, its details are imperfect and will surely be contested, revised and improved. “Caste and custom may be strong barriers between groups, perhaps even today. But the common shared ancestry and rampant ANI/ASI mixture may be the strong, invisible thread that binds all Indians.”
Post a Comment

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...